खेल नीति में संशोधन से बदलेगी पंजाब स्पोर्टस की दशाःराणा सोढी

SPORTS MINISTER RANA SODHI RESOLVES TO RESTORE LOST GLORY OF PUNJAB IN SPORTING ARENA share via Whatsapp

SPORTS MINISTER RANA SODHI RESOLVES TO RESTORE LOST GLORY OF PUNJAB IN SPORTING ARENA

·       A NEW SPORTS POLICY TO BE CHALKED OUT FOR CREATING SPORTS & PLAYER FRIENDLY ATMOSPHERE

·       CASH PRIZE MONEY FOR INTERNATIONAL MEDAL WINNERS FROM PUNJAB TO BE INCREASED

·       6 MEDAL WINNERS FROM PUNJAB AT COMMONWEALTH GAMES-2018 TO BE HONOURED WITH CASH PRIZE AT A FUNCTION SOON

·       ARRANGEMENTS FOR JOBS TO MEDAL WINNERS

·       LONG STOPPED MAHARAJA RANJIT SINGH AWARDS TO BE REVIVED, PRIZE MONEY SET TO ENHANCE

·       10 NEW STADIA TO COME UP AT A COST OF Rs. 32.90 CRORE WITH TRANSFORMATION IN OFFINF FOR 2 SHOOTING RANGES

·       COMPREHENSIVE INCREASE IN PENSION OF VETERAN PLAYERS PROPOSED

·       DISTRICT OLYMPIC ASSOCIATIONS ALONG WITH DISTRICT SPORTS COUNCILS SET TO BE REVIVED

·       NEW SPORTS UNIVERSITY ON ANVIL TO BOLSTER SPORTING STANDARD

अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पदक जीतने वाले खिलाडिय़ों को दी जाने वाली नगद इनाम राशि में होगी वृद्धि

32.90 करोड़ रूपये की लागत से बनाए जाएंगे 11 नये स्टेडियम और दो शूटिंग रेंजों की होगी कायाकल्प

इंडिया न्यूज सेंटर,चंडीगढ़ः
खेल मंत्री राणा गुरमीत सिंह सोढी ने राज्य में खेलों का स्तर ऊंचा उठाने व खिलाड़ियों में नया जोश पैदा करने के लिए खेल नीति में संशोधन करने की बात कही है। शुक्रवार को पत्रकारों के सात बातचीत में सोढी ने कहा कि वह खुद अंतर्राष्ट्रीय निशानेबाज़ रहे हैं, एेसे में वह जानते हैं कि खेलों को प्रमोट करना जरूरी है। उन्होंने कहा कि खेल नीति को लेकर कैप्टन अमरिन्दर सिंह से बात हो चुकी है। इसके लिए खेल विभाग के अधिकारियों के साथ भी विचार विमर्श हो चुका है। राणा सोढी ने कहा कि अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पदक विजेता पंजाबी खिलाडिय़ों की इनाम राशि और वैटर्न खिलाडिय़ों की पैंशन में विस्तार, कई वर्षोंं से रुके महाराजा रणजीत सिंह एवार्डों को बाँटना और राशि में विस्तार करना, पदक विजेता खिलाडिय़ों को नौकरी देने की स्थाई व्यवस्था और जि़ला ओलम्पिक एसोसीएशन और जि़ला खेल कौंसिलों को क्रियाशील करना नई खेल नीति के अहम पहलू होंगे। उन्होनें कहा कि खेल में पंजाब देश का अग्रणी राज्य रहा है, जो पिछले कई वर्षों से इस क्षेत्र में पीछे रह गया है जब कि पड़ोसी राज्य हरियाणा बहुत आगे चला गया है। उन्होंने कहा कि पंजाब के मुकाबले हरियाणा का खेल बजट भी बड़ा है और इस संबंधी उन्होंने मुख्यमंत्री जी से भी बातचीत की है कि पंजाब के खेल बजट में विस्तार किया जायेगा। उन्होंने कहा कि इस संबंधी जल्द ही वित्त मंत्री मनप्रीत सिंह बादल के साथ भी मीटिंग की जायेगी। राणा सोढी ने कहा कि पिछले कुछ वर्षोंं से पंजाब के खिलाडिय़ों का दूसरे राज्यों या विभागों की तरफ जाने का रुझान बढ़ा है। उन्होंने कहा कि पंजाब के खिलाडिय़ों को राज्य में ही रखने के लिए अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पदक जीतने वाले खिलाडिय़ों को दी जाने वाली नगद इनाम राशि में वुृद्धि की जाएगी। इसके अलावा पदक विजेता खिलाडिय़ों को नौकरी देने के लिए स्थाई व्यवस्था की जायेगी। उन्होंने कहा कि इस समय पर ओलम्पिक खेलें/विश्व कप या चैंपियनशिप में पदक विजेता वैटर्न खिलाड़ी को 5000 रुपए महीना पैंशन दी जाती है जिस को 15000 रुपए करने का प्रस्ताव बनाया गया है। इसीके अंतर्गत एशियाई और राष्ट्रमंडल खेल के पदक विजेता वैटर्न खिलाड़ी की पैंशन 2500 रुपए से बढ़ा कर 5000 रुपए करने का प्रस्ताव बनाने के लिए कहा है।
खेल मंत्री ने कहा कि पंजाब के खिलाडिय़ों को राष्ट्रीय खेल एवार्डों की तर्ज पर दिए जाने वाले महाराजा रणजीत सिंह अवार्ड कई वर्षों से रुके पड़े हैं जिनको जल्द ही बांटने के लिए बड़ा समागम किया जायेगा। उन्होंने कहा कि यह नीति बनाई जायेगी कि भविष्य में यह अवार्ड हर वर्ष बाँटे जाएँगे और इसकी इनाम राशि जो कि इस समय पर 2 लाख रुपए हैं, में भी विस्तार किया जायेगा। राणा सोढी ने कहा, ‘मुझे इस बात का मान है कि 1978 में जब महाराजा रणजीत सिंह अवार्ड की शुरुआत हुई थी तो पहली सूची में मेरा भी नाम शामिल था और उस समय पर इनाम राशि 2500 रुपए होती थी। कैप्टन अमरिंदर सिंह की पिछली सरकार समय पर जब मैं खेल संबंधी मुख्य संंसदीय सचिव था तो इस अवार्ड की इनाम राशि 21 हज़ार रुपए से बढ़ा कर एक लाख रुपए की गई थी और अब इसमें और विस्तार किया जायेगा।’राणा सोढी ने कहा कि पटियाला में स्थापित की जा रही राज्य की पहली खेल यूनिवर्सिटी खेल का स्तर ऊँचा उठाने में अहम योगदान पाएगी। उन्होंने कहा कि पंजाब में 32.90 करोड़ रुपए की लागत से खेल का बुनियादी ढांचा बनाने के लिए 10 नये स्टेडियम बनाऐ जाएंगे और दो शूटिंग रेंजों की कायाकल्प की जायेगी। उन्होंने विस्तार में जानकारी देते हुए बताया कि 6 करोड़ रुपए की लागत सेे मुक्तसर साहिब और मोहाली में शूटिंग रेंजों की अपगे्रडेशन की जायेगी, एक करोड़ रुपए की लागत से गिद्दड़बाहा में मल्टीपर्पज़ स्टेडियम, 6.25 करोड़ की लागत से गुरू हरसहाय, टांडा उड़मुड़, गिद्दड़बाहा और खडूर साहिब में ब्लाक स्तरीय स्टेडियम और 3 करोड़ रुपए की लागत के साथ ढुढीके (मोगा) में हाकी एस्टोटरफ स्टेडियम बनाए जाएंगे। इसके अलावा खेलो इंडिया स्कीम के अंतर्गत 2.18 करोड़ रुपए की लागत से तरन तारन में मल्टीपर्पज़ इंडोर हाल स्टेडियम, 7.47 करोड़ रुपए की लागत से वार हीरोज़ स्टेडियम संगरूर में मल्टीपर्पज़ इंडोर स्टेडियम और 7 करोड़ रुपए की लागत से होशियारपुर में एथलैटिकस ट्रैक समेत मल्टीपर्पज़ स्टेडियम और खेल कंपलैक्स में स्वीमिंग पूल बनाया जायेगा। खेल मंत्री ने कहा कि खेलो इंडिया स्कीम के अंतर्गत राज्य में पैरा स्पोर्टस वाले अपंग खिलाडिय़ों की पदोन्नित के लिए काम किया जायेगा। इसके अलावा माझा, मालवा और दोआबा तीन क्षेत्रों में क्षेत्रीय सैंटर खोलने और सीमावर्ती क्षेत्र के जिलों का खेल की तरफ विशेष ध्यान देना मुख्य एजेंडा होगा। इस मौके पर खेल विभाग के डायरैक्टर अमृत कौर गिल, सहायक डायरैक्टर करतार सिंह सैंहबी, कार्यकारी डिप्टी डायरैक्टर सुरजीत सिंह, डी.एस.एफ.ए. पवन कपूर और पंजाब राज्य खेल कौंसिल के संयुक्त सचिव इंज. संजय महाजन भी उपस्थित थे।

SPORTS MINISTER RANA SODHI RESOLVES TO RESTORE LOST GLORY OF PUNJAB IN SPORTING ARENA
Source: INDIA NEWS CENTRE

Leave a comment





10
11

Latest post