गांव झहेरुहेड़ी की पंचायती ज़मीन खरीदने के लिए हुई घपलेबाज़ी में डी.डी.पी.ओ. और बी.डी.पी.ओ. सहित पंचायत सचिव गिरफ्तार

DDPO, BDPO and Panchayat Secy arrested in multi-crore Jheurheri panchayat land purchase scam share via Whatsapp

DDPO, BDPO and Panchayat Secy arrested in multi-crore Jheurheri panchayat land purchase scam


अदालत द्वारा 2 दिनों का विजिलेंस रिमांड

इंडिया न्यूज चंडीगढ़/एस ए एस नगर:
पंजाब विजिलेंस ब्यूरो ने आज ग्राम पंचायत गांव झहेरुहेड़ी के नाम पर विभिन्न स्थानों पर 25 एकड़ से अधिक ज़मीन खरीदने में हुई लगभग 8 करोड़ रुपए की घोटालेबाज़ी की जांच के बाद उस समय पर तैनात डी.डी.पी.ओ. एस.ए.एस. नगर गुरबिंदर सिंह सरायो और मलविंदर सिंह बी.डी.पी.ओ खरड़ सहित रवीन्द्र सिंह ग्राम पंचायत सचिव को गिरफ़्तार करके अदालत से 2 दिन का रिमांड लिया है। आज यहां यह जानकारी देते हुए विजिलेंस ब्यूरो के मुख्य निदेशक-सह-ए.डी.जी.पी. श्री बी.के. उप्पल ने बताया कि विजिलेंस ब्यूरो और पंचायत विभाग द्वारा जांच के दौरान पाया गया कि राज्य सरकार द्वारा मोहाली हवाई अड्डे का विस्तार करने के समय गांव झ्युरहेड़ी की करीब 36 एकड़ पंचायत की भूमि अधिग्रहण की गई जिसका मुआवज़ा 1.50 करोड़ रुपए प्रति एकड़ के हिसाब से 54,16,87,500 रुपए जारी किया गया था और यह राशि डायरैक्टर ग्रामीण विकास और पंचायत विभाग की निगरानी अधीन रखी गई थी परंतु साल 2013 में सरपंच गुरपाल सिंह ने पंचायत द्वारा पारित प्रस्ताव के विपरीत विभागों के अधिकारियों, कर्मचारियों, सरपंच और अन्यों ने मिलकर विभिन्न स्थानों पर ज़मीन खरीदने में घपलेबाज़ी की। उन्होंने बताया कि इन व्यक्तियों ने ज़मीन खरीदने संबंधी सरकारी निर्देशों की जानकारी होते हुए भी अपने निजी लाभ के लिए यह ज़मीन कुलैकटर रेट और मार्केट रेटों से बहुत ऊंची दर पर खऱीदकर सरकार और ग्राम पंचायत को भारी नुक्सान पहुंचाया जिससे उक्त दोषियों डी.डी.पी.ओ., बी.डी.पी.ओ. और पंचायत सचिव सहित सुरिंदर सिंह उर्फ सुरिंदर ख़ान निवासी मूलेपुर जिला फतेहगढ़ साहिब, मोहम्मद सुहेल चौहान निवासी मकान नंबर 991, सैक्टर 79, मोहाली, दर्शन सिंह निवासी हल्लोमाजरा (यू.टी.), स्वर्ण सिंह गांव टिवाना तहसील डेराबस्सी जिला मोहाली और दर्शन सिंह निवासी कंवरपुर (ऊकसी जट्टां) जिला पटियाला के विरूद्ध भारतीय दंडावली की धारा 409, 420, 465, 467, 471, 120 -बी. और भ्रष्टाचार निरोधक कानून की धारा 13 (1) (डी) और 13 (2) के अंतर्गत मुकदमा दर्ज करके अगली कार्यवाही आरंभ कर दी गई है। उन्होंने बताया कि ग्राम पंचायत द्वारा प्रस्ताव पास करके मुआवज़े की रकम से पंचायत की सीमा के साथ लगते शहरी क्षेत्र में बूथ और शो-रूम साइट सरकार द्वारा निर्धारित नीति और शर्तों के अनुसार खरीद करने के लिए प्रस्तावित ब्लॉक विकास और पंचायत अफ़सर के द्वारा सरकार को भेजने संबंधी लिखा गया। इस संबंधी रिपोर्ट बी.डी.पी.ओ खरड़ की तरफ से दिनांक 24.9.2015 को जि़ला विकास और पंचायत अफ़सर मोहाली को भेजी गई तथा उन्होंने दिनांक 6.10.2015 को यह प्रस्ताव डिवीजनल डिप्टी डायरैक्टर पटियाला के पास भेज दिया। उन्होंने दिनांक 9.11.2015 द्वारा डिप्टी डायरैक्टर (भूमि और विकास) के पास मंज़ूरी के लिए प्रस्ताव भेजा जिन प्रस्तावों पर आपत्तियां उठाई गई। यह प्रस्ताव आपत्तियों की पूर्ति करने के लिए डी.डी.पी.ओ मोहाली को 5.1.2016 को भेजा गया और दिनांक 6.6.2016 तक 9 चेतावनी पत्र लिखने के बावजूद भी इस प्रस्ताव संबंधी ऐतराज़ पूरे करके यह प्रस्ताव वापिस सरकार की स्वीकृति के लिए नहीं भेजा गया। जांच के अनुसार इस प्रस्ताव को गुरबिंदर सिंह सरायो डी.डी.पी.यो ने बिना किसी कारण अपने दफ़्तर में दबा कर रखा जिससे ज़मीन खरीद करने के लिए सरकार की तरफ से ग्राम पंचायत गांव झ्यूरहेड़ी को कोई लिखित प्रशासनिक स्वीकृति नहीं दी गई। इस दौरान ग्राम पंचायत झ्यूरहेड़ी की तरफ से डायरैक्टर ग्रामीण विकास और  पंचायत विभाग की सलाह पर एक नया प्रस्ताव दिनांक 1 फरवरी, 2016 को पारित करके सीधे तौर पर उनको भेजा गया। इस प्रस्ताव में अक्वायर की गई पंचायती ज़मीन के मुआवज़े की प्राप्त हुई रकम के साथ ग्रामीण क्षेत्र में कृषि योग्य ज़मीन और कुछ कमर्शियल शोरूम शहरी क्षेत्र में खरीदने हेतु 15 करोड़ रुपए की राशि मंज़ूर करने के लिए लिखा गया। इस प्रस्ताव के आधार पर उस समय तैनात डायरैक्टर पंचायत ने ग्राम पंचायत की मांग मुताबिक अपने द्वारा 10.2.2016 को किये गए आदेशों के अनुसार 15 करोड़ की राशि का चैक ग्राम पंचायत झ्यूरहेड़ी को भेजा गया। इस राशि से झ्यूरहेड़ी पंचायत की तरफ से गांव कैदीपुर और करीमपुरा में करीब 25 एकड़ कृषि योग्य ज़मीन की खरीद करने संबंधी 3 सौदे इकरार डदनांक 6.4.2016, इकरार डदनांक 6.4.2016, इकरार डदनांक 27.4.2016 के द्वारा किये गए। इस ज़मीन का सौदा सुरिंदर सिंह उर्फ सुरिंदर ख़ान निवासी मुलेपुर जि़ला फतेहगढ़ और उसके भांजे मुहम्मद सुहेल चौहान सैक्टर 79 मोहाली और बलदेव सिंह निवासी वजीदपुर तहसील डेराबस्सी नाम के दलालों द्वारा करवाया गया। उन्होंने बताया कि दिनांक 6.4.2016 के द्वारा जगजीत सिंह, स्वर्ण कौर, हरभजन कौर और नवनीत सिंह की तरफ से गाँव करीमपुरा और गाँव कन्दीपुर की जो 165 कनाल 18 मरले ज़मीन ग्राम पंचायत झ्यूरहेड़ी को बेची गई उस ज़मीन का सौदा 29,50,000 रुपए प्रति एकड़ के हिसाब से तय हुआ और इसी हिसाब से विक्रेता पक्ष को अदायगी की गई जो कुल 6,11,75,625 रुपए बनती थी। जबकि खरीददार पक्ष ग्राम पंचायत झ्यूरहेड़ी की तरफ से यह ज़मीन 54 लाख रुपए प्रति एकड़ के हिसाब से खऱीदी दिखाकर 11,19,82,500 रुपए का ख़र्च स्टैंप ड्यूटी और अन्य खर्चों के बिना किया दिखाया गया। यह ज़मीन खरीदने के समय कुल 5,08,06,875 रुपए का घपला किया गया। उन्होंने बताया कि इस तरह हरपाल सिंह की तरफ से ग्राम पंचायत को 36 कनाल 11/3 मरले ज़मीन दिनांक 27.4.2016 को बेची गई। इस ज़मीन का सौदा 23,50,000 रुपए प्रति एकड़ के हिसाब से हुआ। इसी हिसाब से विक्रेता पक्ष को अदायगी की गई जो कुल 1,05,94,093 रुपए बनती थी जबकि खरीददार पक्ष ग्राम

DDPO, BDPO and Panchayat Secy arrested in multi-crore Jheurheri panchayat land purchase scam
OJSS Best website company in jalandhar
Source: INDIA NEWS CENTRE

Leave a comment





10
11

Latest post