रक्षाबंधन पर बनेगा दुर्लभ संयोग, 50 साल बाद होगा ऐसा

Rakshabandhan will be built on rare coincidence, after 50 years share via Whatsapp

इंडिया न्यूज सेंटर। इस बार सावन में पांच सोमवार आ रहे हैं, जो विशिष्ट संयोग माना जाता है। ज्योतिषाचार्य दीपक अरोड़ा के मुताबिक इस साल रक्षाबंधन पर भी एक दुर्लभ संयोग बनेगा।
शुभ नक्षत्र और संयोग से सजा यह सावन 10 जुलाई सोमवार को सर्वार्थ सिद्धि योग, उत्तरा आषाढ़ नक्षत्र से शुरू होकर 7 अगस्त रक्षाबंधन तक चलेगा। सावन का दूसरा सोमवार 17 जुलाई को, तीसरा सोमवार 24 जुलाई को चौथा सोमवार 31 जुलाई को और पांचवां सोमवार 7 अगस्त को रहेगा। इसमें तीसरे सोमवार 24 जुलाई को पुष्य नक्षत्र रहेगा।
इसलिए इस बार भगवान नीलकंठ अपने भक्तों पर सावन में असीम अनुकंपा बरसाएंगे। सर्वार्थ सिद्धि योग का वक्त बेहद शुभ होता है। सर्वार्थ सिद्धि योग यानी अपने आप में सिद्ध। इस दिन की गई पूजा या हवन-यज्ञ का महत्व काफी अधिक होता है।
बताया कि इस माह में रोटक व्रत भी काफी अहमियत मानी जाती है। श्रावण मास के प्रत्येक सोमवार (पांच सोमवार होने से रोटक व्रत कहलाते हैं) को भगवान शिव-पार्वती की प्रीति के लिए व्रत रखकर शिवजी की बेलपत्र, दूध, दही, चावल, पुष्प, गंगाजल सहित पूजा करने से मनोकामना पूरी होती है। इस बार आखिरी सोमवार को रक्षा बंधन रहेगा। इस दिन चंद्रग्रहण भी रहेगा।

Rakshabandhan will be built on rare coincidence, after 50 years
Source: indianews centre

Leave a comment





10
11

Latest post