विदेश आया प्रदेश के द्वार प्रोग्राम के तहत विदेश मंत्रालय की टीम पहुंची जालंधर

External Affairs Ministry team arrives in Jalandhar share via Whatsapp

External Affairs Ministry team arrives in Jalandhar



रजनीश शर्मा,जालंधरः
विदेश मंत्रालय द्वारा क्षेत्रीय मीडिया के साथ तालमेल बढाने व् विदेश मंत्रलय की नीतियों को गाँव गाँव तक पहुँचाने के मकसद से विदेश मंत्रालय की टीम जालंधर पहुंची है। मंत्रालय के अधिकारियों ने मीडिया को विदेशी नीतिया व् विदेश मंत्रालय के बारे में जानकारी दी। मंत्रालय ने लोगों को जागरुक करने के उद्देशय से इसी साल से एक कार्यकर्म शुरू किया गया “विदेश आया प्रदेश के द्वार” नाम से प्रोग्राम की शुरुआत की है। अभी तक देश के दो बड़े शहरों से मीडिया के साथ मिलने के बाद जालंधर पहुंचा । इस के तहत विदेश मंत्रालय के तीन संयुक्त सचिवों ने जालंधर के एक निजी होटल में पत्रकारों के साथ खुलकर बात की है। उन्होेने बताया कि लोगों की धारना है कि विदेश मंत्रालय सिर्फ पासपोर्ट ही बनाता हैः इसी धारणा को ख़त्म करने व् विदेश मंत्रालय द्वारा की जा रहे कार्यों  के बारे में जानकारी देने के मकसद से विदेश मंत्रालय द्वारा मार्च 2018 को “विदेश आया प्रदेश के द्वार” नामक कार्यक्रम शुरू किया गया ।  जिस के तहत हैदराबाद व् गुवाहाटी के बाद विदेश मंत्रालय की टीम संयुक्त सचिव रविश कुमार व दीपक कुमार जालंधर पहुंची। विदेश मंत्रालय के तीन सचिवो ने अलग अलग तरीके से न सिर्फ मंत्रालय द्वारा किये जा रहे कार्यों का विश्लेषण किया गया बल्कि विदेश नीति के बारे में भी विस्तार से बताया है।  उन्होंने बताया की विदेश मंत्रालय द्वारा विदेश नीति को लोगों तक पहुंचाने के लिए क्षेत्री मीडिया ऐसा माध्यम है जिससे काफी फायदा हो सकतै है । इसलिए इस कार्यकर्म को शुरू किया गया है कार्यक्रम में उन्होंने बताया की तीन करोड़ के करीब भारतीय विदेशों में बसे हुए है । इस लिए वह चाहते है की जितने भी भारतीय विदेश जाये वह सुरक्षित जाये, ट्रेनिंग लेकर जाये व् फर्जी एजेंटों से सावधान रहे। इसके अलावा उन्होंने बताया की देखने में आया है की ज्यादातर व्यक्ति शादी करने के बाद महिलायों को यहाँ छोड़ जाते है। इसलिए एक कमेटी बनायी गई है । जिसमे एन आर आई शादियों के पंजीकरण होना चाहिए जरुरी है। इसके साथ ही जो छोड़ जाते है उनके ऑनलाइन सम्मन जारी किये जा रहे है ।उन्होंने बताया की विदेश मंत्रालय को लोगों के करीब ले जाने के लिए सभी राज्यों में विदेश भवन बनाये जा रहे है , जिसकी शुरुआत महाराष्ट्र से कर दी गई है । इस मौके क्षेत्रीय पासपोर्ट अधिकारी ने बताया की पिछले पांच साल में दोआबा में 50 प्रतिशत के करीब पासपोर्ट बनाये गए है। इसके इलावा कई गुना रेवेनुए भी बढ़ा है ।  उन्होंने बताया की इन दिनों पंजाब में रोज़ के करीब 28 से 30 डिपोट केस आ रहे है।

External Affairs Ministry team arrives in Jalandhar
India News Centre

India News Centre

India News Centre

Source: INDIA NEWS CENTRE

Leave a comment





10
11

Latest post