विश्व एड्स दिवस के उपल्क्ष्य में पंजाब इंस्टीच्यूट ऑफ मेडिकल साइंसिज (पिम्स) की ओर से दौड़ करवाई गई

PIMS Organized 3rd edition of Run to End Aids to create awareness among people about Aids share via Whatsapp

 PIMS Organized  3rd edition of Run to End Aids  to create awareness  among  people about Aids


इंडिया न्यूज सेंटर,जालंधरः
जालंधर, हर साल की तरह इस साल भी विश्व एड्स दिवस के उपल्क्ष्य में पंजाब इंस्टीच्यूट ऑफ मेडिकल साइंसिज (पिम्स) की ओर से 5 और10 किलोमीटर अलग-अलग दौड़ करवाई गई। जिसे पिम्स के रेजिडेंट डायरेक्टर अमित सिंह ने झंडी दिखाकर रवाना किया। पंजाब इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस (पिम्स) की ओर से करवाई गई दौड़ में लगभग 1000  पिम्स के डाक्टर, स्टाफ के अलावा अन्य स्कूली विद्यार्थी  एड्स के प्रति जागरुकता लाने के लिए भागे। बच्चे और बुजुर्ग जिन्होंने इस दौड़ में हिस्सा लिया का उत्साह देखते ही बनता था। इस अवसर पर पोस्टर मेकिंग प्रतियोगिता का आयोजन भी किया गया। इस अवसर पर पिम्स के एमबीबीएस के विद्यार्थियों की ओर से भांगड़ा और नुक्कड़ नाटक पेश कर सबका मन मोह लिया। पुरस्कार वितरण समारोह में डीसीपी स. गुरमीत सिंह मुख्यातिथि के रूप में शामिल हुए। रेजिडेंट डायरेक्टर अमित सिंह ने पुष्प गुच्छे देकर उनका स्वागत किया। इस अवसर पर मुख्यातिथि ने एड्स के खिलाफ लोगों को आगे आने का आह्वान किया। उन्होंने कहा कि युवा ही देश का भविष्य होते हैं। युवाओं को एड्स जैसी भयंकर बिमारी के प्रति जागरुक करने के लिए पिम्स की ओर से करवाए जा रहे ऐसे समारोह काबिलेतारीफ है। विश्व एड्स दिवस पर ऐसे समारोह करवाने का उदेश्शय एड्स जैसी बिमारी से होने वाले दुष्प्रभाव और उससे आने वाली चुनौतियों से लोग भली भांति परिचित हों, जिससे इन चुनौतियों के विरुद्ध बदलाव लाया जा सके।  लोगों में एड्स के प्रति जागरुकता पहले से बढ़ी है। इस अवसर पर पिम्स के रेजिडेंट डायरेक्टर अमित सिंह इस समारोह में आए हुए सभी अतिथियों का स्वागत किया। उन्होंने कहा कि एड्स एक ऐसा शब्द है, जिसे सुनने के बाद मन सिहर उठता है। मन में न जाने कैसे-कैसे ख्याल आते हैं। हमारे देश में आज भी एड्स पीडि़त व्यक्ति यह बात स्वीकार करने से करने से कतराते हैं। इसकी वजह है समाज में होने वाले भेदभाव। कहीं न कहीं आज भी आज भी एचआईवी पाजीटिव व्यक्तियों के प्रति भादभाव की भावना रखी जाती है। है। यदि उनके प्रति समानता का व्यवहार किया जाए तो स्थिति और भी सुधर सकती है। सिर्फ जागरुकता है ही इसका एक मात्र बचाव है। उन्होंने कहा कि विश्व एड्स दिवस याद करवाता है कि यह गंभीर बिमारी अभी भी हमारे समाज के बीच है और इसे लगातार खत्म करने की कोशिशों में सभी को आगे आना होगा। उन्होंने आगे बताया कि इस प्रकार के समारोह लोगों में जागरूकता लाने का काम करते है। पिम्स के वाइस प्रिंसीपल डा. राजीव अरोड़ा, मैडिकल सुपरिटैंडैंट डा. कुलबीर शर्मा, डाक्ट्र्स, र्नसिंग स्टाफ और कर्मचारी भी इस मौके पर मौजूद रहे। विजेताओं के नाम इस प्रकार है- 10 किलोमीटर में ओवर आल पुरुष वर्ग में गुरप्रीत सिंह पहले, और महिला वर्ग में ट्विंकल पहले स्थान पर रहे। पिम्स की ओर से इन्हे दस हजार रुपये का चैक, गोल्ड मेडल और सर्टीफिकेट देकर सम्मानित किया गया। पांच किलोमीटर ओवर आल  में इसी प्रकार पुरुष वर्ग में मकशिंदर सिंह प्रथम,  महिला वर्ग में मिशेलदीप कौर प्रथम स्थान पर रहे । 21 से 40 वर्ष के पुरुष वर्ग में रविंदर सिंह प्रथम, आकाशदीप सिंह दुूसरे, और विकास तीसरे स्थान पर रहा। 21 से 40 वर्ष के महिला वर्ग में सोम्या प्रथम, रोमा सेठी दुूसरे, और दर्पन ने तीसरा स्थान प्राप्त किया। 40 से उपर पुरुष वर्ग में डा. मुनीश पहले, जसविंदर सिंह दूसरे, जसवीर सिंह तीसरे स्थान पर रहे इन्हे क्रमवार स्वर्ण, सिल्वर और कास्य पदक देकर सम्मानित किया गया। 40 से ऊपर महिला वर्ग में शामला सेठी पहले, शीना दूसरे, डा. बंरिंदर कौर तीसरे स्थान पर रहे इन्हे क्रमवार स्वर्ण, सिल्वर और कास्य पदक देकर सम्मानित किया गया।

PIMS Organized 3rd edition of Run to End Aids to create awareness among people about Aids
OJSS Best website company in jalandhar
India News Centre

India News Centre

India News Centre

India News Centre

India News Centre

India News Centre

India News Centre

India News Centre

India News Centre

India News Centre

India News Centre

Source: INDIA NEWS CENTRE

Leave a comment





10
11

Latest post