येदियुरप्पा तीसरी बार बने कर्नाटक के मुख्यमंत्री,राजभवन के बाहर कांग्रेस बैठी घरने पर

Yeddyurappa becomes the third Chief Minister of Karnataka, share via Whatsapp

Yeddyurappa becomes the third Chief Minister of Karnataka,

नेशनल न्यूज डेस्कः  बीजेपी नेता बीएस येदियुरप्पा ने गुरुवार की सुबह 9 बजे राजभवन में मुख्यमंत्री पद की शपथ ले ली है। राज्यपाल वजुभाई वाला ने सुबह नौ बजे राजभवन में कड़ी सुरक्षा और व्यवस्था के बीच येदियुरप्पा को शपथ दिलाई. येदियुरप्पा ने तीसरी बार कर्नाटक के मुख्यमंत्री पद की कमान संभाली है। येदियुरप्पा (75) ने बीजेपी के केंद्रीय और राज्य के नेताओं और नवनिर्वाचित विधायकों के बीच कन्नड़ भाषा में शपथ ली। इससे पहले सर्वोच्च न्यायालय की तीन सदस्यीय पीठ ने येदियुरप्पा के शपथ ग्रहण पर रोक लगाने से इनकार कर दिया था। शपथ ग्रहण के बाद येदियुरप्पा विधानसभा परिसर पहुंचे हैं। केंद्रीय मंत्री अनंत कुमार समेत पार्टी के कई नेता उनके साथ हैं। इससे पहले राजभवन आते वक्त येदियुरप्पा ने रास्ते में राधा-कृष्ण मंदिर में दर्शन पूजन किया. राजभवन पहुंचते ही येदियुरप्पा ने बीजेपी नेताओं सहित राज्य के मुख्य सचिव और डीजीपी से मुलाकात कीहै। बीजेपी सूत्रों के मुताबिक येदियुरप्पा शपथ ग्रहण समारोह के बाद सदन में बहुमत साबित करने की तारीख का ऐलान कर सकते हैं। येदियुरप्पा के शपथ ग्रहण को लेकर बीजेपी मुख्यालय और उनके आवास पर जश्न का माहौल रहा। परंपरागत नृत्य और गाने बाजे के साथ पार्टी समर्थकों का हुजूम पार्टी मुख्यालय पर लगा रहा।

राज्यपाल ने सरकार बनाने के लिए येदियुरप्पा को दिया न्यौता

बता दें कि कर्नाटक के राज्यपाल वजुभाई वाला ने बुधवार की शाम बी. एस. येदियुरप्पा को नई सरकार गठित करने और गुरुवार को मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ग्रहण करने के लिए आमंत्रित किया, येदियुरप्‍पा को 15 दिन में बहुमत साबित करना होगा। शपथग्रहण समारोह में पीएम मोदी और अमित शाह मौजूद नहीं रहेंगे। इससे पहले गुरुवार को तड़के सुप्रीम कोर्ट ने कर्नाटक बीजेपी को बड़ी राहत दी और येदियुरप्पा की शपथ पर रोक लगाने से इनकार कर दिया. सुप्रीम कोर्ट ने भारतीय जनता पार्टी से समर्थक विधायकों की लिस्ट भी मांगी है। साथ ही राज्यपाल को दिए गए समर्थन पत्र की भी मांग की है। मामले में अब कोर्ट शुक्रवार की सुबह 10.30 बजे दोबारा सुनवाई करेगी। इससे पहले कांग्रेस येदियुरप्पा के शपथ ग्रहण के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट पहुंच गई। सुप्रीम कोर्ट कर्नाटक में सरकार बनाने के लिये बीजेपी को आमंत्रित करने के राज्यपाल वजुभाई वाला के फैसले को चुनौती देने वाली कांग्रेस की याचिका पर रात में सुनवाई करने के लिये सहमत हो गया।याचिका में बीजेपी के बीएस येदियुरप्पा को मुख्यमंत्री पद की शपथ दिलाए जाने पर रोक लगाने की मांग की गई।
राज्यपाल ने देर शाम बीजेपी को सरकार बनाने का न्योता दिया था। येदियुरप्पा को 15 दिन में विधानसभा में बहुमत साबित करने को कहा गया है। बीजेपी राज्य में हुए विधानसभा चुनाव में 104 सीटें हासिल करके सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी है। वहीं चुनाव के बाद बने कांग्रेस-जद (एस) गठबंधन के 116 विधायक हैं। इस गठबंधन ने भी राज्यपाल के पास सरकार बनाने का दावा पेश किया था। बीजेपी की राज्य इकाई के प्रवक्ता वामनाचार्य ने कहा, "हमें राजभवन से एक पत्र प्राप्त हुआ है, जिसमें येदियुरप्पा को सरकार गठन करने और सुबह 9.30 बजे शपथ ग्रहण करने के लिए कहा गया है." शहर के मध्य स्थित राजभवन के लॉन में ग्लास हाउस में येदियुरप्पा एक साधारण समारोह में कड़ी सुरक्षा के बीच अकेले शपथ ग्रहण करेंगे।वामनाचार्य ने कहा कि राज्यपाल ने पार्टी नेताओं और नवनिर्वाचित विधायकों को शपथ ग्रहण समारोह में आमंत्रित किया है, लेकिन खबर लिखे जाने तक राजभवन से मीडिया को कोई आधिकारिक बयान जारी नहीं हुआ है।

किसी पार्टी को नही मिला बहुमत
 कर्नाटक विधानसभा चुनाव 2018 में किसी भी पार्टी को बहुमत नहीं मिला है, लेकिन चुनावी रण से राजभवन और सुप्रीम कोर्ट तक कड़ी जद्दोजहद के बाद आखिरकार बीजेपी ने कर्नाटक को भी कांग्रेस मुक्त कर ही दिया। आज भारतीय जनता पार्टी के नेता बीएस येदियुरप्पा एक बार फिर कर्नाटक के मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने जा रहे हैं। हालांकि उनके पास अभी 104 ही विधायक है, लेकिन उन्होंने बहुमत का का दावा किया है।

- येदियुरप्पा ने पद और गोपनीयता की शपथ ली।
- येदियुरप्पा का शपथ ग्रहण समारोह शुरू हुआ।
- प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह शपथ ग्रहण में शामिल नहीं हुए।
- बीजेपी नेताओं ने पीएम और अमित शाह के ना आने के पीछे दिल्ली में होने वाली संसदीय कार्यसमिति की बैठक को बताया है।
येदियुरप्पा का सियासी इतिहास
27 फरवरी 1943 को जन्मे बुकानकेरे सिद्दालिंगप्पा येदियुरप्पा कर्नाटक बीजेपी के अध्यक्ष भी हैं। आपको बता दें कि 2014 के आम चुनाव में येदियुरप्पा शिमोगा से सांसद भी चुने गए थे। येदियुरप्पा इससे पहले 2007 और 2008 में भी राज्य के मुख्यमंत्री बने थे। दक्षिण भारत में बीजेपी की तरफ से मुख्यमंत्री बनने वाले येदियुरप्पा सबसे पहले शख्स हैं। हालांकि इसके बाद खनन घोटाले में नाम सामने आने के बाद उन्होंने बीजेपी से अलग होना पड़ा था। येदियुरप्पा ने कर्नाटक जनता पक्ष नाम की पार्टी बनाई थी, लेकिन 2014 में उन्होंने इसका बीजेपी में विलय कर दिया।

यह है मौजूदा चुनाव में कर्नाटक की स्थिति
कर्नाटक में किसी भी पार्टी को बहुमत नहीं मिला है। लेकिन बीजेपी ने 104 सीटें होने के बावजूद बहुमत का दावा किया है। यहां कांग्रेस और जेडीएस ने गठबंधन के बहुमत का दावा किया था लेकिन उन्हें राज्यपाल वजुभाई वाला ने सरकार बनाने का न्योता नहीं दिया। इसे लेकर कांग्रेस और जेडीएस ने सुप्रीम कोर्ट का भी रुख किया, लेकिन फिलहाल फैसला बीजेपी के पक्ष में रहा।
भारतीय जनता पार्टी- 104 (वोट शेयर- 36.2 फीसदी)
भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस- 78 (वोट शेयर- 38.0 फीसदी)
जनता दल सेक्युलर- 37 (18.2)
केपीजेपी- एक सीट
बहुजन समाज पार्टी- एक सीट
निर्दलीय- एक सीट

Yeddyurappa becomes the third Chief Minister of Karnataka,
Source: INDIA NEWS CENTRE

Leave a comment





10
11

Latest post